बालों का झड़ना

बालों का झड़ना

बालों का झड़ना

बाल झड़ना आज हर एक इंसान के लिए परेशानी का सबब बन गया है। कुछ लोगों में बाल झड़ने की समस्या ज्यादा तो कुछ लोगों में कम और कुछ लोग तो समय से पहले ही गंजे हो जाते है,सिर के सारे बाल समय से पहले गिर जाते हैं।हर लोगों में बाल झड़ने के अलग-अलग कारण होते है।अमेरिकन हेयर लॉस एसोसिएशन के मुताबिक सामान्य बाल बढ़ने के सायकल में रोज हर किसी के करीब 100बाल टूटते हैं हालांकि अगर ज्यादा तेजी से बाल टूटने लगे तो यह तनाव की बात है। बाल झड़ना और हेयर लॉस दो अलग-अलग बातें हैं।जब कोई बाल जड़ से गिर जाता है और दोबारा नहीं उगता तो उसे हेयर लॉस कहते है।

कारण:बाल झड़ने के बहुत सारे  कारण होते है जैसे महिलाओं में हार्मोन का असंतुलन, बर्थ कंट्रोल पिल्स, प्रेगनेंसी, बच्चों का जन्म, लगातार गलत हेयर स्टाइल करना,खाने में पोषक तत्वों की कमी होना जैसे प्रोटीन, विटामिनऔर मिनरल्स की कमी, लगातार तनाव लेना इसके अलावा कुपोषण, प्रदूषण,स्केलप इंफेक्शन कुछ दवाइयों के साइड-इफेक्ट,कुछ मेडिकल कंडिशन जैसे थायराइड,आयरन डेफिसियन्सी एनिमिया, बहुत बार यह अनुवांशिक भी होता है।

लक्ष्ण: बालों कापतलाहोना, बालों में पैच बनना,बालों का आसानी से टूटना, आदि।

बचाव: संतुलित खाना खाएं।धोने के बादअधिक समय तक गीला न रखें, बालों की समय-समय पर तेल-मालिश करें।हरी सब्जियों और मौसमी फलों का सेवन करें। अच्छी नींद लें।

होम्योपैथिक उपचार:होम्योपैथी दवाईयां बाल झड़ने में काफ़ी लाभकारी है। इसमें लक्षण के आधार पर दवाईयां ले कारण को ठीक किया जाता है, जिससे वह दुबारा न हो सके। इसके लिए अर्निका, फास्फोरस,सेलेनियम,एसिड फास,Hairlaxजैसी दवाइयां दी जाती है।